टोपोलॉजी क्या है और उसके प्रकार - What is Topology in Hindi.

टोपोलॉजी क्या है और उसके प्रकार - What is Topology in Hindi.


टोपोलॉजी क्या है.

टोपोलॉजी नेटवर्क के डिजाईन को कहा जाता है जो दो ग्रीक शब्द टोपो और लॉजी से मिलाकर बना होता है जहाँ टोपो का मतलब स्थान और लॉजी का मतलब अध्ययन होता है। टोपोलॉजी का उपयोग यह समझाने के लिए किया जाता है की नेटवर्क भौतिक रूप से कैसे जुड़ा है टोपोलॉजी यह भी बताता है की एक उपकरण दूसरे उपकरण से कैसे जुड़े होते है और कम्युनिकेट करते है।  

एक भौतिक टोपोलॉजी कंप्यूटर नेटवर्क में जुड़े कंप्यूटर और उसके नोड्स या फिर डिवाइस के स्थान, वर्कस्टेशन और उसके कोड के बारे में विस्तार से वर्णन करता है।

टोपोलॉजी क्या है


टोपोलॉजी कितने प्रकार की होती है.

नेटवर्क टोपोलॉजी मुख्य रूप से छः प्रकार की होती है जिसके बारे निचे विस्तार से बताया गया है।

बस टोपोलॉजी:-

BUS TOPOLOGY एक ऐसा नेटवर्क सेटअप है जिसका प्रत्येक नोड्स एक ही सिंगल केबल से कनेक्टेड होता है जिसे बैकबोन भी कहा जाता है। इस टोपोलॉजी में विभिन्न उपकरणों को कनेक्ट करने के लिए RJ-45 केबल का इस्तेमाल किया जाता है जिसमे डाटा फ्लो का दिशा एक ही डायरेक्शन में होता है।

बस टोपोलॉजी में किसी भी प्रकार के दिक्कत आने पर इसका पूरा नेटवर्क काम करना बंद कर देता है यह अन्य नेटवर्क टोपोलॉजी की तुलना में बहुत ही आसानी से व्यवस्थित हो जाता है। बस टोपोलॉजी एक प्रकार का नेटवर्क टोपोलॉजी है जिसके प्रत्येक छोर पर टर्मिनेटर के साथ एक केबल जुड़ा होता है जो नोड्स को जोड़ने का कार्य करता है। डाटा को इसके एंड से दुसरे एंड तक पहुँचाने के लिए इसका एक नोड सर्वर की तरह काम करता है।

बस टोपोलॉजी के फायदे है.

BUS TOPOLOGY के कुछ फायदे निम्नलिखित है-

  • बस टोपोलॉजी में नोड्स को जोड़ना काफी आसान होता है।
  • उपकरणों को कनेक्ट करना आसान होता है।
  • इसमें COST भी काफी कम लगता है।
  • इसे समझना काफी सहज होता है।
  • दो केबल को जोड़ कर इसे बढ़ाना काफी आसान होता है।

  •  इसमें केबल की लेंथ भी कम होता है।

बस टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और बस टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


बस टोपोलॉजी क्या है - What is Bus Topology in Hindi. 


रिंग टोपोलॉजी:-

रिंग टोपोलॉजी में सारे कंप्यूटर डिवाइस एक रिंग के रूप में एक दूसरे से कनेक्टेड रहते है इस टोपोलॉजी के अन्दर कोई भी कंप्यूटर होस्ट या फिर मेन कंप्यूटर नही होता है। रिंग टोपोलॉजी में सिग्नल को पास होने के लिए रिंग का आकार दिया जाता है वही डाटा को पास करने के लिए नोड्स के अलावा रिपीटर का इस्तेमाल किया जाता है। 

RING TOPOLOGY का उपयोग LOCAL AREA NETWORK में किया जाता है जहाँ इसके सारे नोड्स क्लोज्ड लूप कॉन्फ़िगरेशन में जुड़े होते है। इसमें जुड़ने वाले नेटवर्क पास वाले डिवाइस से डायरेक्ट जुड़े होते है जबकि और सभी डिवाइस दूसरे डिवाइस के थ्रू जुड़े रहते है।   

रिंग टोपोलॉजी में डाटा को डायरेक्ट एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में नही भेजा जाता है। इस नेटवर्क टोपोलॉजी को एक्टिव टोपोलॉजी भी कहते है क्योकि यह सभी दूसरे कंप्यूटर डिवाइस से जुड़ा होता है। रिंग के फॉर्म में जुड़े सभी कंप्यूटर अपने पास वाले डिवाइस को इनफार्मेशन प्रदान करते है इस तरह से डाटा रियल कंप्यूटर तक पहुँच जाता है।

रिंग टोपोलॉजी के फायदे (ADVANTAGES).

रिंग टोपोलॉजी के कुछ फायदे निम्नलिखित है-

  • रिंग टोपोलॉजी को इनस्टॉल करना बहुत ही सस्ता है।
  • इस नेटवर्क टोपोलॉजी का डाटा ट्रान्सफर बहुत ही ऊँच स्पीड रेट पर होता है।
  • इसमें हुए गलतियों को आसानी से खोजा और ठीक किया जा सकता है।
  • इसमें नोड्सको जोड़ना और हटाना काफी सरल होता है। 
  • इसमें डाटा फ्लो की दिशा एक ओर ही होता है जिसके कारण इनमे टकराव नही होता है। 

रिंग टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और रिंग टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


रिंग टोपोलॉजी क्या है - What is Ring Topology in Hindi.


स्टार टोपोलॉजी:-

स्टार टोपोलॉजी एक LOCAL AREA NETWORK होता है जिसमे इसके कंप्यूटर और अन्य डिवाइस एक सेंट्रल कंप्यूटर के साथ जुड़े होते है जिसे हब या फिर होस्ट कहा जाता है। हब के साथ ही सारे डिवाइस जैसे कंप्यूटर, प्रिंटर और अन्य मशीने जुड़े होते है इनका जुड़ाव हब के साथ स्टार के रूप में होता है जिसके कारण इसे स्टार टोपोलॉजी कहा जाता है 

स्टार टोपोलॉजी में कोई भी दो नोड्स आपस में डायरेक्टली कम्यूनिकेट नही करता है इस नेटवर्क में कम्युनिकेशन सेंट्रल कंप्यूटर के माध्यम से होता है कम्युनिकेशन के लिए कंप्यूटर सबसे पहले नेटवर्क हब को सन्देश भेजता है और इसी सन्देश को हब सारे नेटवर्क में प्रसारित कर देता है इस टोपोलॉजी में नोड्स या कंप्यूटर के बीच होने वाला कम्युनिकेशन सेंट्रल कंप्यूटर/हब द्वारा नियंत्रित किया जाता है

स्टार टोपोलॉजी के लाभ (ADVANTAGES). 

स्टार टोपोलॉजी के उपयोग में लाने के बहुत से फायदे है जो निम्नलिखित है-

  • इसमें हुए प्रॉब्लम को आसानी से खोजा जा सकता है क्योकि इसके लिंक को पहचानना बहुत ही सरल है।
  • इसके एक नोड के ख़राब होने से नेटवर्क काम करना बंद नही करता है।
  • इसका कॉस्ट काफी कम होता है।
  • इसमें नोड्स को ऐड करने के लिए सिर्फ स्विच का उपयोग किया जाता है स्विच से जोड़ते ही नोड्स नेटवर्क से जुड़ जाता है।
  • स्टार टोपोलॉजी पर साइबर अटैक का कोई खतरा नही होता है यह उससे पूरी तरह सुरक्षित होता है।

स्टार टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और स्टार टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


स्टार टोपोलॉजी क्या है - What is Star Topology in Hindi.


मेष टोपोलॉजी:-

मेष टोपोलॉजी मेष टोपोलॉजी में सारे नोड्स आपस में डायरेक्टली जुड़े होते है इसमें किसी भी प्रकार के नेटवर्क हब का आवश्यकता नही होता है इसमें जुसे सारे डिवाइस और मशीन जैसे- कंप्यूटर, स्कैनर, प्रिंटर आदि सीधे तौर पर एक दूसरे से जुड़े रहते है। इसमें जुड़े सारे नोड्स के केबल जुड़ने के बाद एक जाल के आकार की तरह दिखता है और मेष का हिंदी मीनिंग जाल होता है इसीलिए इसे मेष टोपोलॉजी कहा जाता है।

मेष टोपोलॉजी को बहुत ही सुरक्षित नेटवर्क माना जाता है इसमें दो कंप्यूटर के बीच हो रहे कम्युनिकेशन को एक्सेस करना बहुत ही कठिन होता है। इस तरह के नेटवर्क टोपोलॉजी में इससे कनेक्टेड नोड्स के बीच कम्युनिकेशन के लिए बहुत से रुट्स का प्रयोग किया जाता है वही एक लार्ज मेष नेटवर्क के लिए बहुत से वायरलेस नोड्स का भी इस्तेमाल किया जाता है।

मेष टोपोलॉजी के लाभ (ADVANTAGES).

मेष टोपोलॉजी के निम्नलिखित लाभ है-

  • मेष टोपोलॉजी में डाटा फ्लो का स्पीड बहुत ही तेज़ होता है जिसके चलते संचार बहुत जल्द संभव हो पाता है।
  • इसमें हुए गलती को पहचानना आसान होता है।
  • इसमें अधिक नोड्स कनेक्ट होने के बाद भी कोई समस्या उत्पन्न नही होता है।
  • यह एक बहुत ही सुरक्षित प्रोटोकॉल माना जाता है।
  • इस नेटवर्क को अपग्रेड करना भी आसान होता है।

मेष टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और मेष टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


मेष टोपोलॉजी क्या है - What is Mesh Topology in Hindi.


ट्री टोपोलॉजी:-

ट्री टोपोलॉजी एक विशेष प्रकार की सरंचना होती है जो स्टार टोपोलॉजी और बस टोपोलॉजी से मिलकर बना होता है इसके सारे नोड्स आपस मिलकर पेड़ का आकार बनाते है इसी कारण इसे ट्री टोपोलॉजी कहा जाता है। ट्री टोपोलॉजी को STAR-BUS टोपोलॉजी भी कहा जाता है।

अन्य दूसरे टोपोलॉजी की तुलना में ट्री टोपोलॉजी सबसे सरल होता है इसी कारण इसका उपयोग नेटवर्क में कई तरीको से किया जाता है

ट्री टोपोलॉजी के लाभ (ADVANTAGES).

ट्री टोपोलॉजी के प्रमुख लाभ निम्नलिखित है-

  • TREE TOPOLOGY में उसमे हुए गलतियों को खोजना आसान होता है इसके लिए इसके पुरे नेटवर्क को बदलने का आवश्यकता नही होता है।
  • यह कई भागो में बंटा होता है जिसके चलते इसे संभालना आसान होता है।
  • इस नेटवर्क टोपोलॉजी के माध्यम से जटिल नेटवर्क को कम खर्चा में पूरा कर किया जा सकता है।
  • इसमें पॉइंट टू पॉइंट कनेक्शन होता है।
  • इसका उपयोग वाइड एरिया नेटवर्क के लिए किया जाता है यह बहुत से मशीनों को आसानी से प्रबंधित कर सकता है।

ट्री टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और ट्री टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


ट्री टोपोलॉजी क्या है - What is Tree Topology in Hindi.


हाइब्रिड टोपोलॉजी:-

दो या दो से अधिक नेटवर्क टोपोलॉजी से मिलकर बने टोपोलॉजी को हाइब्रिड टोपोलॉजी कहा जाता है इस टोपोलॉजी में बस टोपोलॉजी, मेष टोपोलॉजी, स्टार टोपोलॉजी, रिंग टोपोलॉजी, ट्री टोपोलॉजी शामिल होते है। हाइब्रिड टोपोलॉजी को आवश्यकता के अनुसार बनाया जाता है इसमें स्टार और मेष टोपोलॉजी या फिर बस और स्टार टोपोलॉजी आदि शामिल हो सकते है हाइब्रिड टोपोलॉजी का उपयोग स्कूल, रिसर्च आर्गेनाइजेशन, बैंक आदि जगहों पर किया जाता है

हाइब्रिड टोपोलॉजी में किसी भी प्रकार के त्रुटि का पाता लगाना बहुत ही आसान होता है और इसमें डाटा का ट्रान्सफर अन्य टोपोलॉजी की तुलना में बहुत तेज़ होता है

हाइब्रिड टोपोलॉजी के लाभ (ADVANTAGES). 

हाइब्रिड टोपोलॉजी के कुछ विशेष लाभ निम्नलिखित है-

  • हाइब्रिड टोपोलॉजी में ट्रैफिक बढ़ने के बाद भी यह अच्छे से कार्य करता है
  • बड़े नेटवर्क के निर्माण के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है
  • इस नेटवर्क टोपोलॉजी को अपग्रेड करना आसान होता है तथा इसमें नए उपकरण को भी जोड़ा जा सकता है
  • इसमें डाटा ट्रान्सफर का गति बहुत ही तेज़ होता है
  • इसमें त्रुटि का पाता लगाना आसान होता है

हाइब्रिड टोपोलॉजी क्या है उसके डायग्राम, फीचर और हाइब्रिड टोपोलॉजी के ADVANTAGES और DISADVANTAGES के बारे में विस्तार से जानने के लिए यह पोस्ट पड़े-


हाइब्रिड टोपोलॉजी क्या है - What is Hybrid Topology in Hindi.


निष्कर्ष

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में आप सब को टोपोलॉजी के बारे में विस्तार से बताया गया और आप सब ने टोपोलॉजी क्या है, इसके विभिन्न प्रकार कौन कौन से है वही इसके विभिन्न प्रकार जैसे- बस टोपोलॉजी, रिंग टोपोलॉजी, स्टार टोपोलॉजी आदि के प्रकार उसके फायदे और नुकसान के बारे में जाना मुझे उम्मीद है की आपको टोपोलॉजी से जुड़ा यह पोस्ट आपको पसंद आया होगा।

आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो इसे शेयर करे और कुछ त्रुटि रह गया हो तो कमेंट करके जरुर बताए।

Post a Comment

Previous Post Next Post